हाथरस : जिला अधिकारी रमेश रंजन ने वर्चजुअल प्लेटफार्म के माध्यम से रूबरू होकर प्रधानों को शुभकामनाऐं दी

1 min read
Spread the love

हाथरस : जनपद की 201 संगठित ग्राम पंचायतों के प्रधान एवं सदस्य ग्राम पंचायतों द्वारा शपथ ग्रहण करने के उपरान्त जिलाधिकारी रमेश रंजन ने आज मंगलबार के दिन 201 ग्राम प्रधान एवं 2164 सदस्य ग्राम पंचायतों को ई-गर्वनेन्स सेल कलेक्ट्रेट में वर्चजुअल प्लेटफार्म के माध्यम से रूबरू होकर शुभकामनाऐं दी। सरकार की प्राथमिकताओं के बारे में जिलाधिकारी द्वारा विस्तार से चर्चा की। उन्होंने कहा कि कोविड-19 के बढ़ते संक्रमण को नियंत्रित किये जाने के लिये आवश्यक है कि ग्राम पंचायत की निगरानी समिति ग्राम स्तर पर सक्रिय रूप प्रतिदिन से कार्य करे। उन्होंने कहा कि संदिग्ध लक्षणयुक्त मरीजों को तत्काल मेडिसिन किट वितरित की जाए। कोविड-19 के संक्रमण पर नियन्त्रण हेतु ग्राम में नियमित समय अन्तराल पर सोडियम होइपोक्लोराइड के माध्यम से सैनिटाइजेशन का कार्य किया जाये तथा ग्रामवासियों को कोविड-19 से बचाव के लिये टीकाकरण कराये जाने हेतु प्रेरित किया जाए। अन्य जनपदों से आने प्रवासी मजदूरों को मनरेगा के अन्तर्गत जाॅब कार्ड बनवाते हुये उन्हें रोजगार दिया जाये। ग्राम पंचायत में साफ-सफाई नियमित रूप से की जाये यदि किसी ग्राम पंचायत में सफाई कर्मियों द्वारा लापरवाही बरती जा रही है तो उसकी सूचना विकास खण्ड एवं जिला स्तर पर जरूर दी जाए। नव निर्वाचित ग्राम प्रधानों (संगठित ग्राम पंचायतों) का कार्यकाल आज से प्रारम्भ हो चुका है इसलिये सरकार की विशेष प्राथमिकता वाले कार्यक्रम जैसे- तालाबों का सौन्दर्यीकरण एवं ग्राम पंचायतों में सभी नालियों का जुड़ाव किसी न किसी तालाब से हो तथा बिना अवरोध के नालियों का पानी तालाब तक पहुँच जाए। जिलाधिकारी ने नवनिर्वाचित प्रधानों से वृक्षारोपड की अभी से कार्य योजना बनाकर वर्षा ऋतु में अधिक से अधिक वृक्षारोपड़ कराऐं। ग्राम पंचायतोें में स्वच्छता के ऊपर विशेष ध्यान दिया जाऐ, जनपद की 150 ग्राम पंचायतों में डोर-टू-डोर कूड़ा कलैक्शन की व्यवस्था प्रारम्भ की जा चुकी है अवशेष ग्राम पंचायतों में भी डोर-टू-डोर कूड़ा कलैक्शन की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। गीला कचरा (कार्बनिक) एवं सूखा कचरा (अकार्बनिक) का पृथक्करण ग्राम पंचायत स्तर पर किया जाए। पाॅलीथीन पूर्णतः प्रतिबंधित है जिसका किसी भी दशा में प्रयोग न किया जाये। ग्राम पंचायतों में खेल का मैदान विकसित किया जाना है जिस हेतु ग्राम पंचायतों में जगह का चिन्हीकरण किया जा चुका है। खेल का मैदान विकसित होने से गाॅंव के बच्चों के लिये खेलने एवं गाॅव के बुजुर्ग व्यक्तियों के लिय बैठने एवं टहलने का एक स्थान नियत होने से बच्चों के शीरीरिक विकास में बृद्धि होगी। ग्राम पंचायतों में सरकार के प्राथमिकता वाले बिन्दुओं पर कार्य किया करने वाले 10 अच्छे ग्राम प्रधानों को जनपद स्तर पर पुरस्कृत किया जायेगा, जिसके लिये एक समिति का गठन किया जायेगा जो प्रतिमाह 10 अच्छे कार्य करने वाले तथा 10 सबसे खराब कार्य करने वाले ग्राम प्रधानों के सम्बन्ध में विस्तृत आख्या प्रस्तुत करेगी। जहाॅँ 10 अच्छे कार्य करने वाले ग्राम प्रधान को पुरस्कृत किया जायेगा वहीं 10 खराब प्रगति वाले ग्राम प्रधानों के विरूद्ध आवश्यक कार्यवाही भी की जायेगी।
जिलाधिकारी ने जिला पंचायत राज अधिकारी एवं खण्ड विकास अधिकारियों को निर्देश दिये कि नवनिर्वाचति ग्राम प्रधानों का एक प्रशिक्षण वित्तीय नियमों के सम्बन्ध में अतिशीघ्र कराना सुनिश्चित करें जिससे ग्राम प्रधानों को यह जानकारी मिल सके कि ग्राम पंचायत क्या-क्या कार्य कर सकती है तथा उन कार्यों पर होने वाले वित्तीय व्यय का प्रबन्धन किस-किस निधि से नियमानुसार किया जा सकता है। अन्त में जिलाधिकारी ने नवनिर्वाचित प्रधानों को पुनः शुभकामनाऐं देते हुए वर्तमान में कोविड-19 के बढ़ते संक्रमण पर नियंत्रण हेतु ग्राम स्तर पर आवश्यक कार्यवाही एवं सरकार की प्राथमिकता वाले बिन्दुओं पर अच्छा कार्य किये जाने की अपेक्षा की गयी। इस अवसर पर जिला पंचायत राज अधिकारी बनवार लाल, अतिरिक्त जिला सूचना अधिकारी प्रदीप कुमार, ई0डी0एम0 मनोज उपाध्याय, डी0सी0पी0एम0 शैलेन्द्र लवानियाँ, योगेश सारस्वत, जितेन्द्र कौशिक, धर्मेन्द्र सिंह, सुमित प्रभाकर, सुशील कुमार आदि उपस्थित रहे।

INPUT – Brijmohan Thinua

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *